सोमवार, 24 अगस्त 2020

अटकन-चटकन: कुछ प्रतिक्रियाएं

अपनी किताब की प्रशंसा , अपनी ही वॉल पर, खुद के द्वारा पोस्ट करने में सकुचाहट तो होती है, लेकिन फिर आप सब तक वो रिव्यू कैसे पहुंचे, जो केवल मुझे मिला हो? फिर किताब का पहला रिव्यू एक अलग ही महत्व रखता है। Shaily Ojha मेरी भांजी है, मोटिवेशनल स्पीकर है और सकारात्मकता से भरी एक ऐसी शख़्सियत है, जिसका साथ हमेशा खुशनुमा अहसास से भर देता है। आज शैली का छोटा सा, प्यारा सा रिव्यू मिला तो मैंने झट से Rashmi Ravija की तर्ज़ पे उससे फ़ोटो भी मांग ली, किताब सहित। आप भी देखें, क्या लिखा शैली ने-

"अटकन चटकन"

किताबें पढ़ना पसंद है मुझे, पर अपने पसंद के विषय पढ़ते पढ़ते हिन्दी की किताबें कम ही हाथ में आती हैं। बहुत दिनों बाद एक किताब हाथ में आयी। पहली चीज़ जिसने आकर्षित किया वह है इसका नाम 😊 पढ़ना शुरू किया तो बस रुक ना पायी। हर चित्र जैसे आंखों के सामने से गुज़र रहा हो। चरित्र चित्रण तो ऐसा कमाल का, कि आप अपने जीवन से जोड़ लेंगे उन्हें जाने अनजाने। इंसान का स्वभाव ही उसका सबसे बड़ा मित्र और सबसे बड़ा शत्रु है इस बात को लेखिका ने बड़ी खूबसूरती, सरलता और प्यार से दर्शाया है। वंदना अवस्थी दुबे जी को इस कथा के लिए बहुत बधाई।



डॉ शीला नायक ( Sheela Nayak ) महाराजा महाविद्यालय छतरपुर में संस्कृत विभाग की विभागाध्यक्ष हैं। अटकन चटकन मंगवाना, फिर उसे पढ़ना ... फिर उस पर अपनी टिप्पणी देना....!
अब और क्या चाहिए हमें?

अटकन-चटकन
--------------------
सबसे पहले तो उपन्यास का शीर्षक ही आकर्षक है | पाठक को जिज्ञासा बनी रहती है कि अटकन-चटकन से क्या तात्पर्य है | मैंने बचपन में खेलते खेलते ये बात सुनी थी कि अटक न-चटकन चार चपेटन....इस प्रकार यह शीर्षक बहुत ही प्यारा है |

उपन्यास की प्रमुख पात्र सुमित्रा जी बड़े घर की बेटी हैं और उन्होंने ये संस्कार बखूबी अपनी ससुराल में निर्वहन किये | सुमित्रा जी धैर्य की मूर्ती हैं , उनकी जितनी प्रशंसा की जाए कम है | वहीँ कुंती का चरित्र पढ़कर बड़ी नाराज़गी उभरती है कि सगी बहन किस स्तर तक गिर सकती है, कुंती जैसी स्त्रियां ही कुल का संहार करने वाली होती हैं | उपन्यास का पढ़ना पाठक को निरंतर बाँध कर रखता है | एक चलचित्र की तरह पाठक उसी में खो जाता है | उपन्यास के माध्यम से लेखिका जी ने उस समाज का चित्रण किया है जहां स्त्रियों की शिक्षा उनकी दशा पर ध्यान नहीं दिया जाता था | उपन्यास का अंत सुखद है जो की पाठक को आनंद की अनुभूति कराता है | लेखिका को यथार्थ चित्रण के लिए बहुत बहुत बधाई |💐💐💐




हमारी छोटी दीदी यानी Archana Awasthi ने सम्भवतः सबसे पहले "अटकन-चटकन" पढ़ा, लेकिन टिप्पणी आज आई। उनकी व्यस्तताएं जानते हैं हम, सो कोई शिक़ायत नहीं। 😊 बहुत धन्यवाद छोटी, इतनी प्यारी टिप्पणी के लिए। 💐💐

अटकन-चटकन
-------------------

सर्वप्रथम उपन्यास का शीर्षक और पुस्तक का आवरण अपनी तरफ़ आकर्षित करता है. उपन्यास की मुख्य-पात्र सुमित्रा की सरलता और कुन्ती की कुटिलता, कुन्ती का हृदय परिवर्तन होना तथा इस बीच का घटना-क्रम बराबर पाठक की उत्सुकता को बनाये रखता है. ग्रामीण-परिवेश और बुन्देली-भाषा का प्रयोग उस अंचल को चलचित्र की भाँति हमारे सम्मुख ले आते हैं. लेखिका वन्दना अवस्थी दुबे का उपन्यास यथार्थ-चित्रण-सा बन पड़ा है, उन्हें ढेर सारी शुभकामनाएं और अमित बधाइयां...

--अर्चना
#अटकनचटकन


Dev Shrivastava, यानी संजय श्रीवास्तव के बचपन के कुछ साल नौगाँव में बीते। पापाजी के शिष्य हैं। बेहद शिष्ट और नम्र स्वभाव के देव उतने ही सरल भी हैं। आज किताब मिली और आज ही पढ़ डाली। इस स्नेह पर धन्यवाद कह के पानी नहीं फेरेंगे हम।
अटकन-चटकन
-------------------

दीदी,आज जैसे ही ,"अटकन चटकन " कोरियर से आई , मन खुश हो गया , पूरे समय उपन्यास को पढ़ते समय कभी सुमित्रा का चरित्र आंखो के सामने आता तो कभी कुंती का,दोनों ही चरित्र अपने आस पास ही घूम रहे थे।तिवारी जी के इतने बड़े परिवार में एक एक पात्र जाना पहचाना लग रहा था। बहुत ही खूबसूरती से सारे पात्रों को आपने गढ़ा है।शुरू किया तो छोड़ने का मन ही नहीं किया।बीच में पारंपरिक बुन्देली भी पढ़ने को मिली । इतना सुंदर और सरल उपन्यास लिखने के लिए बहुत बहुत बधाई आपको ।😊👏👏🙏👍👍👍🙏

#अटकनचटकन

6 टिप्‍पणियां:

  1. पुस्तक की सफलता के लिए बहुत बहुत बधाई

    जवाब देंहटाएं
  2. आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल बुधवार (26-08-2020) को   "समास अर्थात् शब्द का छोटा रूप"   (चर्चा अंक-3805)   पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --  
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'  
    --

    जवाब देंहटाएं
  3. पुस्तक पर व्याख्यात्मक टिप्पणीयां पुस्तक के प्रति आकर्षण बढ़ाती।
    पुस्तक की सफलता के लिए बहुत बहुत शुभकामनाएं एवं बधाई।

    जवाब देंहटाएं