रविवार, 16 अक्तूबर 2011

क्या होगा अंजाम मेरे देश का....

चौदह अक्टूबर को श्री लालकृष्ण आडवाणी की रथ-यात्रा सतना पहुंची. चूंकि मध्य-प्रदेश में भाजपा की सरकार है, सो पूरा प्रदेश ही इस यात्रा की अगवानी और तैयारियों में बिछा जा रहा था. सतना में भी ज़ोरदार तैयारियां हुईं. रात में ही विशाल जन सभा का आयोजन हुआ. भारी भीड़ जुटी या जुटाई गयी. सुबह सारे अखबार इस जनसभा की तस्वीरों और समाचारों से अटे पड़े थे. लेकिन इस खबरों के पार्श्व में एक और खबर भी थी, जिसने मन खराब कर दिया. खबर थी पार्टी के अधिकारियों द्वारा आमंत्रित पत्रकारों को पांच-पांच सौ के लिफ़ाफ़े बांटने की. किसी एक पत्रकार ने इस घटना को अपने कैमरे में कैद कर लिया, और देखते ही देखते ये समाचार राष्ट्रीय समाचार बन गया. कल तमाम राष्ट्रीय न्यूज़ चैनलों की हैड लाइन था ये समाचार.
राजनैतिक फलक पर होने वाली हलचल मुझे कभी उद्वेलित नहीं करती, लेकिन अन्य किसी क्षेत्र से जुड़े समाचार मुझे खुश या नाखुश ज़रूर करते हैं. फिर ये मामला तो पत्रकारों से जुड़ा हुआ था, यानि मेरे अपने ही क्षेत्र से जुड़ा समाचार था.
दुख यहां पैसे बंटने का नहीं था, बल्कि पत्रकारों द्वारा ले लेने का था :(
किसी भी राजनैतिक दल द्वारा सांसदों को खरीदने, मतदाताओं को खरीदने, आम सभा में भीड़ को जुटाने के लिये पर्याप्त पैसा खर्च किया जाता है, तो राजनैतिक दलों द्वारा खरीदने की कोशिश नयी नहीं है, लेकिन पत्रकारों का बिक जाना दुखद है.
ऐसा नहीं है कि इस तरह की कोशिश पहली बार की गयी हो. "पेड-न्यूज़" का चलन अब पुराना हो गया है. कई दल खबरें न छापने के लिये पैसा देते हैं, तो कई विरोधी दल की खबरें छापने के लिये पैसा खर्च करते हैं. लेकिन यहां किस बात के लिये पैसे दिये जाने की कोशिश की गयी, समझ में नहीं आया. महज पांच-पांच सौ के लिफ़ाफ़े लेने के पीछे यदि पत्रकारों का मक़सद पार्टी की निम्न स्तरीय हरक़त दिखाने का था, तो इन सबने उसी वक्त आपत्ति दर्ज़ क्यों नहीं करवाई? मामला तो तब भी प्रकाश में आता ही, बल्कि ज़्यादा कारगर तरीक़े से सामने आता.
संविधान के दो अतिमहत्वपूर्ण स्तम्भ संसद और मीडिया , दोनों ही लगातार विवादों में रहने लगे हैं. संसद की निष्पक्षता तो कभी खबरों में थी ही नहीं, लेकिन मीडिया एक समय में अपनी निष्पक्षता और खबरों की प्रामाणिकता के लिये जाना जाता था, लेकिन अब मीडिया की छवि ही मसखरे की तरह हो गयी है.
रेडियो सरकारी तंत्र का मुखबिर है तो टीवी चैनलों को अफ़वाहों की पुष्टि करते रहने से फ़ुर्सत नहीं है. पीत-पत्रकारिता ने जड़ें जमा ली हैं. रेडियो के समाचार सुनो तो वहां केवल सरकारी कामकाज का गुणगान होता रहता है. न्यूज़ चैनल किसी एक खबर को पकड़ते हैं तो पूरा तंत्र बस उसी खबर को दोहराता रहता है. खास तौर से किसी फ़िल्मी हस्ती के जीवन में झांकने या किसी भी ख्यातिलब्ध व्यक्ति की व्यक्तिगत मीमांसा में मीडिया को ज़्यादा मज़ा आने लगा है. आम आदमी देश-विदेश के खास समाचार जानने की इच्छा मन में ही लिये रह जाता है. यदि पत्रकारिता ही बाज़ार में पहुंच गयी तो क्या होगा?
अखबारों से भी अब वास्तविक पत्रकारिता ग़ायब है. सभी अखबार प्रायोजित खबरों से भरे होते हैं. अखबारों की अपनी रिपोर्टिंग या किसी खास घटना के आगे का हाल जिसे हम अखबार की भाषा में स्टोरी-डेवलपमेंट कहते हैं, पढने को अब आंखें तरसती रह जाती हैं.
ऐसी खरीदी और बिकी हुई पत्रकारिता का क्या भविष्य होगा, राम जाने!

38 टिप्‍पणियां:

  1. ऐसी खरीदी और बिकी हुई पत्रकारिता का क्या भविष्य होगा, राम जाने!
    Haan! Bhagwaan hee jane!

    उत्तर देंहटाएं
  2. मीडिया को खरीदना आज की सच्चाई है. कई बार तो मीडिया बाक्यादा उगाही भी करता है. अब तो उन्हें एक बढ़िया हथियार भी मिल गया है आर टी आई के रूप में.

    उत्तर देंहटाएं
  3. यह खबर टेलीविजन पर देखी थी।

    पत्रकारों को अपने समाचार कवरेज के लिये पत्रकार वार्ता के बहाने खिलाने-पिलाने और स्मृति चिन्ह देने के बहाने उपहार देने का चलन तो आम सी बात है। यहां शायद उपहार नहीं मिल पाये होंगे तो नकद थमा दिये।

    यह भी लगा कि सतना के पत्रकारों की बड़ी कम कीमत समझते हैं राजनेता लोग। पांच सौ रुपये में आजकल क्या होता है जी। :)

    प्रख्यात पत्रकार स्व.अखिलेश मिश्र ने मीडिया की स्थिति पर एक लेख लिखा था देखियेगा- मीडिया: ठसक बढ़ गई, हनक जाती रही- अखिलेश मिश्र

    उत्तर देंहटाएं
  4. पत्रकारिता जैसे noble profession पर से भी विश्वास उठता जा रहा है

    आप जुमलों को कसौटी पे परखिये पहले
    वरना मफ़हूम बदल देगा सहाफ़त का निज़ाम
    ' 'शेफ़ा'
    उम्दा पोस्ट !!

    उत्तर देंहटाएं
  5. ये तो सच है...अब किसी पर भरोसा नहीं रहा....अखबार न्यूज़ चैनल्स सबका पता होता है...कि किस पार्टी को सपोर्ट करते हैं ये.

    अखबारों की तो फिल्मो की समीक्षा पर भी भरोसा नहीं रहता...जिस निर्माता-निर्देशक ने पैसे खिलाए .उसकी घटिया फिल्मों के भी तारीफ़ के पुल बाँध देंगे...
    किसी भी तरह की पत्रकारिता अब निष्पक्ष नहीं रही.

    उत्तर देंहटाएं
  6. आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टी की चर्चा कल मंगलवार के चर्चा मंच की जी रही है!
    यदि किसी रचनाधर्मी की पोस्ट या उसके लिंक की चर्चा कहीं पर की जा रही होती है, तो उस पत्रिका के व्यवस्थापक का यह कर्तव्य होता है कि वो उसको इस बारे में सूचित कर दे। आपको यह सूचना केवल इसी उद्देश्य से दी जा रही है! अधिक से अधिक लोग आपके ब्लॉग पर पहुँचेंगे तो चर्चा मंच का भी प्रयास सफल होगा।

    उत्तर देंहटाएं
  7. यही तो समस्या है..... अब जनता तक सच और स्पष्ट बातें पहुंच ही कहाँ पाती हैं......

    उत्तर देंहटाएं
  8. आज का मीडिया- प्रिंट और दृश्य, धनिकों के हाथ में है तो धन ही देवता हो गया ना :)

    उत्तर देंहटाएं
  9. रेडियो के समाचार सुनो तो वहां केवल सरकारी कामकाज का गुणगान होता रहता है. न्यूज़ चैनल किसी एक खबर को पकड़ते हैं तो पूरा तंत्र बस उसी खबर को दोहराता रहता है. खास तौर से किसी फ़िल्मी हस्ती के जीवन में झांकने या किसी भी ख्यातिलब्ध व्यक्ति की व्यक्तिगत मीमांसा में मीडिया को ज़्यादा मज़ा आने लगा है.

    .sach kaha aapne ...apni-apni dhapli apna-apna raag alapne mein hi inko achha lagta hai..
    bahut badiya jaagruktabhari prastuti...aabhar!

    उत्तर देंहटाएं
  10. आपमें और मुझमे एक साम्य है......... हमारे अपने बारे में विचार बहुत मिलते हैं....

    बहरहाल जो बिकता है उसके खरीददार हैं....... और कुछ बिकाऊ ना हो इसका मतलब है की ऊपर की बोली कोई और लगा चुका है... ऐसी दशा में मूल्य बढ़ा देना चाहिए..... अब कौन समझाए की प्रेस की आजादी और महज ५०० रूपये..... भाई बुरी बात है....... इतना भी मत गिराओ...

    उत्तर देंहटाएं
  11. सच्छाई से रूबरू कराती पोस्ट है आपकी ... आज सबका विश्वास उठ गया है मीडिया और पत्रकारों से .. इस्कोप पुन्ह स्थापित करने का काम भी मीडिया और पत्रकार ही कर सकते हैं ...

    उत्तर देंहटाएं
  12. बस विचार कर सकते हैं या चिन्ता ...

    चिंतनीय पोस्ट

    उत्तर देंहटाएं
  13. मीडिया वाले जो कहते हैं उसीपर सब यकीन करते हैं! अखबार और टीवी में जो दिखाया और सुनाया जाता है हमें लगता है की वही सच है पर असल सच्चाई कुछ और ही होता है!
    मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है-
    http://ek-jhalak-urmi-ki-kavitayen.blogspot.com/
    http://seawave-babli.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  14. सच कह रही है आप | टी. वि .के समाचारों से उकताकर रेडियो और दूरदर्शन में समाचार ढूंढने पर भी सरकारी गुणगान ही मिलता है |आम जीवन तो जैसे हाशिये पर आ गया है |

    उत्तर देंहटाएं
  15. प्रभावी प्रस्तुति , आभार.


    कृपया मेरे ब्लॉग पर भी पधारने का कष्ट करें.

    उत्तर देंहटाएं
  16. vandana ji
    main bhi rachna ji ki baat se sahmat hun.jahir hai ek patra kaar hone ke naate aapka man jaroor hi uddhelit ho gaya hoga.ab to koi news sunne ki ikchha bhi nahi rahti kyon ki pata hai har news ko apne man mutabik ghataana ya badhana midiya ka kaam rah gaya hai.
    achhi lagi aapki prastuti
    dhanyvaad sahit
    poonam

    उत्तर देंहटाएं
  17. सही कहा...यही हाल है अब देश के भविष्य...

    उत्तर देंहटाएं
  18. वंदना जी, पत्रकारिता से जुड़े लोग भी इसी समाज से आते हैं....और ज़्यादातर व्यवस्था का हिस्सा होकर रह जाते हैं :) :) :)

    उत्तर देंहटाएं
  19. मामले पर ''सक्षम'' ही टिप्‍पणी करें तो बेहतर.

    उत्तर देंहटाएं
  20. राम जाने.

    एक फिल्म भी आयी थी. और देश का भी

    राम जाने.

    उत्तर देंहटाएं
  21. दुख यहां पैसे बंटने का नहीं था, बल्कि पत्रकारों द्वारा ले लेने का था ......

    बेहद लज्जा जनक समाचार है यह .....

    पर आपकी नेक नियति और ये आदर्श विचार आपको जरुर बुलंदियों तक पहुंचाएगा .....

    उत्तर देंहटाएं
  22. आपकी चिंता बेमानी नही है.
    जैसे जैसे हमारी सोच का पतन
    होता जा रहा है,समस्या गंभीर
    होती जा रही है.

    सुन्दर विचारोत्तेजक प्रस्तुति के
    लिए आभार.

    मेरे ब्लॉग पर आईयेगा,वंदना जी.
    आपका वादा था और फिर मैंने
    नई पोस्ट भी जारी की है.
    'नाम जप' पर अपने अमूल्य विचार
    और अनुभव प्रस्तुत करके अनुग्रहित
    कीजियेगा.

    उत्तर देंहटाएं
  23. आपको एवं आपके परिवार के सभी सदस्य को दिवाली की हार्दिक बधाइयाँ और शुभकामनायें !
    मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है-
    http://seawave-babli.blogspot.com/
    http://ek-jhalak-urmi-ki-kavitayen.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  24. सुन्दर अभिव्यक्ति...

    आपको धनतेरस और दीपावली की हार्दिक दिल से शुभकामनाएं
    MADHUR VAANI
    MITRA-MADHUR
    BINDAAS_BAATEN

    उत्तर देंहटाएं
  25. आपको दीपावली की बहुत बहुत शुभकामनायें....

    उत्तर देंहटाएं
  26. दीपावली की हार्दिक शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  27. आपको, परिजनों और मित्रों को दीपावली की हार्दिक शुभकामनायें!

    उत्तर देंहटाएं
  28. दीपावली के पावन पर्व पर आपको मित्रों, परिजनों सहित हार्दिक बधाइयाँ और शुभकामनाएँ!

    way4host
    RajputsParinay

    उत्तर देंहटाएं
  29. आपकी प्रस्तुति अच्छी लगी । .मेरे पोस्ट पर आपका स्वागत है । दीपावली की शुभकामनाएं ।

    उत्तर देंहटाएं
  30. वंदना जी,आप मेरे ब्लॉग पर आतीं हैं तो बहुत अच्छा लगता है.समय मिलने पर फिर आईयेगा.
    'नाम जप' पर आपके अमूल्य विचार और
    अनुभव जानकर मुझे बहुत खुशी मिलेगी.

    उत्तर देंहटाएं
  31. आज के समय में पत्रकारिता अब निष्पक्ष नहीं है

    उत्तर देंहटाएं