शुक्रवार, 8 अप्रैल 2011

जय हो................


अन्ना, हम तुम्हारे साथ हैं........

लिखते-लिखते-
जीते अन्ना-जीता देश......जय हो

24 टिप्‍पणियां:

  1. दुष्‍यंत का एक शेर याद आ रहा है-
    कौन कहता है आसमान में सुराख हो नहीं सकता
    एक पत्‍थर तो तबीयत से उछालो यारो
    *
    जय हो।

    उत्तर देंहटाएं
  2. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  3. वंदना जी, पूरे देश ने दिखा दिया है, कि मुद्दों के समाधान के लिए ईमानदार नेतृत्व में सब साथ हैं.

    उत्तर देंहटाएं
  4. स्‍वागतेय ताजी वैचारिक बयार. (आंधी, तूफान, सुनामी क्‍यों नहीं कहा, ऐतराज न हो.)

    उत्तर देंहटाएं
  5. आदरणीय वंदना जी
    नमस्कार !
    अन्ना तुम आगे बढ़ो, हम तुम्हारे साथ हैं
    ......अन्ना ही जीतेंगे

    उत्तर देंहटाएं
  6. कुछ दिनों से बाहर होने के कारण ब्लॉग पर नहीं आ सका
    माफ़ी चाहता हूँ

    उत्तर देंहटाएं
  7. अचानक भारी भ्रष्टाचार की गंदगी के बीच जन्मे इस कमल-पुरुष अन्ना ने जिस लोकपाल ब्रह्मा को पैदा किया है वह आने वाले समय में निरंकुश मंत्रियों की सृष्टि पर अंकुश लगाएगा.

    उत्तर देंहटाएं
  8. अन्ना जी का सपना सच में तबदील हो जाए, यही कामना है।

    उत्तर देंहटाएं
  9. नेतृत्व चाहिए था और जब मिला तो सब साथ हो लिए , ये तो अभी अंगड़ाई है आगे और लड़ाई है.

    उत्तर देंहटाएं
  10. सत्यमेवजयते.सभी को अन्ना की जीत की बधाई.
    आप मेरी पोस्ट 'वन्दे वाणी विनयाकौ' पर अभी तक नहीं आ पाई है.आपका बेसब्री से इंतजार है.
    कृपया,निराश न कीजिये.

    उत्तर देंहटाएं
  11. वंदनाजी जय हो.
    भृष्टाचार के खिलाफ लड़ाई में आप भी शामिल हो गयीं मैं आपको बधाई देता हूँ. जंग ज़ारी रखें

    उत्तर देंहटाएं