शनिवार, 19 मार्च 2011

बेवकूफ़ियां, जो यादगार बन गयीं... (२)

लीजिये, आज मिलिये ब्लॉग-जगत के कुछ और महारथियों से और पढिये उनकी बेवकूफ़ियां, उन्हीं की क़लम से- ( समीर जी की एक शानदार कविता भी मेरे अधिकार क्षेत्र में है अब, सो यथासमय पोस्ट करूंगी)


सहानुभूति बन गई बेवकूफ़ी......समीरलाल


ट्रेपूरी भर चुकी थी, लेकिन सीट मिल गई. शायद अगले स्टेशन से पकड़ते तो खड़े खड़े ही जाना पड़
ता एक घंटे ऑफिस तक.अगले स्टेशन पर ट्रेन रुकी तो बहुत से लोग और चढ़े. अब ट्रेन में भी कुच्च्मकुच्चा हो गई. ऐसे में शिष्टाचारवश लोग किसी बुजुर्ग या गर्भवति महिला या छोटे च्चों के साथ आई महिला के लिए जगह खाली कर देते हैं और खुद खड़े हो जाते हैं. मेरे बाजू में भी एक महिला आ कर खड़ी हुई. देखा तो गर्भवति महिला थी अतः मैं अपनी सीट से खड़ा होकर उनसे आग्रह करने लग कि आप बैठ जाईये.स महिला ने मुझसे कहा कि नहीं, मैं ठीक हूँ. आप बैठिये.मैने पुनः निवेदन किया कि आप गर्भवति हैं, आपको इतनी दूर खड़े खड़े यात्रा नहीं करना चाहिये, आप बैठ जाईये. देर तक खड़े रहना स्वास्थय और आने वाले बेबी के लिए ठीक नहीं है. उसने चौंकते हुए मुझे देखा और बोली- मैं..गर्भवति...यू मस्ट बी किडिंग (आप जरुर मजाक कर रहे होंगे) और वो मुँह बनाकर डिब्बे के दूसरी तरफ चली गई. मैं झेंपा सा अपने आस पड़ोस वालों को देखने लगा. सभी मुस्करा रहे थे. मैने तो बस उसका पेट देख अंदाजा लगाया था. काश, मैं मो
टी महिला और गर्भवति महिला का स्पष्ट भेद जानता होता. मगर अब हो भी क्या सकता था-बेवकूफी तो कर ही बैठे थे. सो अपना सा मुँह लिए वापस बैठ गए सर झुकाये और राम-राम करते रहे, कि जल्दी जल्दी मेरा स्टेशन आये और मैं उतरकर गुम हो जाऊँ भीड़ में.आज भी जबयह वाकिया याद आता है तो अपनी बेवकूफी पर एक बार फिर शरम आ जाती है.चलते चलते-
कभी न रहा शर्मिंदा मैं, नमालूम वाणियों की सूफियों से
मगर मैं बच नहीं पाया, गुजर कर अपनी बेवकूफियों से...
बेवकूफ़ियां याद न दिलायें- अनूप शुक्ल
न्दनाजी आपका बेवकूफ़ियों को सिर्फ़ होली के मौके पर याद करना जंगल में स्वच्छंद विचरते जानवरों को घेरघार कर बाड़े में बंद करने जैसा है। इस सतत प्रक्रिया को केवल होली के मौके तक सीमित करके आप बेवकूफ़ों के पर करतने जैसा काम कर रही हैं। अब आपने कोई
बेवकूफ़ी याद करने के लिये कहा है। जबकि हमें लगता है कि बेवकूफ़ियां करके भूल जानी चाहिये ताकि उनको फ़िर से किया जा सके। याद रखने से बेवकूफ़ियां दोहराने में हिचक होती है।
जैसा कि हम बता चुके हैं यात्राओं में बेवकूफ़ियां चंद्रमा की कलाओं की तरह खिलती है तो हमारी कई बेवकूफ़ियां यात्राओं के दौरान हुई हैं। कई हैं लेकिन उनको याद करने में खतरा यही है कि याद आ जायेंगी तो दुबारा उनको दोहराने में मन हिचकेगा लेकिन आपके आदेश को टालना भी सही नहीं है अत: कुछ बेवकूफ़ियों को याद करने का खतरा मोल ले रहे हैं। एक बार हम दिल्ली हवाई अड्डे पर समय पर पहुंच गये। टिकट के हिसाब से जहाज उड़ने में कुछ घंटे बाकी थी। सो हम मारे स्मार्टनेस के जस्ट इन टाइम चेक इन करने का मंसूबा धरे हवाई अड्डे पर चाय-काफ़ी पीते रहे, हवाई अड्डे से ब्लागिंग करते रहे। जब टिकट के अनुसार समय हुआ तो हम खरामा-खरामा टिकट लेकर चेक इन के लिये पहुंचे तो पता चला कि जहाज तो दो घंटे पहले रवाना हो चुका था। फ़िर तो हमने अपनी स्मार्टनेट को किनारे धकेलकर चेहरे पर बेवकूफ़ी और दीनता धारण की और तू दयालु दीनि हौं तू दानि हौं भिखारी वाली मुद्रा में संबंधित अधिकारी से अनुरोध किया कि अगर मैं पूना नहीं पहुंचा तो न जाने क्या-क्या हो जायेगा। उस भले मानुष ने भी काम भर की दया करके हमें अगले हवाई जहाजसे पूना तो नहीं लेकिन मुंबई तक तो पहुंचा ही दिया। यह मासूम किस्सा यहां विस्तार से वर्णित है। अपनी यह हसीन बेवकूफ़ी बयान करने के बाद लगा कि कुछ बेवकूफ़ियां कई पीढियों तक सफ़र करती हैं। खुशबुओं की तरह फ़ैलती हैं। अभी इसी हफ़्ते मेरा बड़ा बालक अपने कुछ साथियों के साथ एक स्कूली प्रोजेक्ट के सिलसिले में अमेरिका के टेक्सास में डलास गया था। साल भर दिन-रात एक करके बालकों ने एक हसीन सा हवाई जहाज बनाया था। उसे एयरो कम्पटीशन में ले जाने के लिये बुक कराया था। वहां पहुंचकर बालकगण मस्ती करने लगे यह सोचते हुये कि मालवाहक कम्पनी अपने आप उस जहाज को गंतव्य तक पहुंचायेगी। लेकिन वहां कस्टम वालों की सतर्कता का उनकी बेवकूफ़ियों से मुकाबला हो गया। कस्टम वालों ने जहाज के माडल को संवेदनशील मानकर लटका दिया और उसे छोड़ने के लिये तब राजी हुये जब कम्पटीशन तक पहुंचने की उसकी आशायें समाप्त हो चुकी थीं। इतना सतर्क अमेरिकन कस्टम वाले हमेशा रहे होते तो शायद ट्विन टावर पर न मोमबत्तियां जलतीं और न ही उनकी फ़ौज इराक में फ़ंसी होती। पहले तो हमने मौका पाकर बालक को ढेर सारी एक्सपायरी डेट वाली नसीहती झिड़कियां देने की बेवकूफ़ी शुरु की। फ़िर अचानक सहज बुद्धि का तूफ़ान आ गया और बापप्रेम की पिता प्रेम की वर्षा होने लगी। यह जानकर बड़ा सुकून मिला कि बालक अपने पिता की बेवकूफ़ी की परम्परा को आगे बढ़ा रहा है। हमने उसे कहा मस्त रहो और वही आपसे भी कह रहे हैं। बुरा न लगे इस लिये बुरा न मानो होली है भी कह दे रहे हैं।
कितना बड़ा पागल??- सतीश सक्सेना
मेरी तारीफ़ करने लायक बात पूंछ्तीं तो अच्छा लगता ...खैर आपका आदेश टाला नहीं जा सकता !यादगार बेवकूफी ...
कोई १९७६ की बरेली में, कुंवर पुर मोहल्ले में, ह
दो सहपाठियों ने ,एक कमरा किराये पर ले रखा था ! एक दिन क्लास से बापस लौटते समय घर के सामने बने हुए कुएं पर भीड़ देखी जो की रस्सी में बाल्टी डाल क
, बंद अंधे कुंएं में गिरे
एक पिल्ले को बाहर निकालने की कोशिश कर रहे थे !
बेचारा पिल्ले के चिल्लाने की आवाज सुनकर मैंने लोगों से
कहा
कि आप
में से
कोई नीचे क्यों नहीं उतर
जाता ??तो जवाब मिला कि कह किसे रहे
हो तुम्ही
उतर जाओ ! बस ताव में आते ही , मैंने अपनी किताबें उसे दे जूते उतार , रस्सी पकड़ कुंए में उतरने लगा ! फिसलन भरी दीवार पर, पैर का सहारा लेते, नीचे शीघ्र ही पंहुच गया था म
गर पिल्ले को उठाकर बाल्टी में डालते डालते कुछ खतरा सा महसूस हुआ ! बंद सड़े हुए पानी और उसमें से उठती हुई गैस , ने मेरा दम घोंटना शुरू कर दिया था
!
खतरे का अहसास होते ही शरीर में जान बचाने के लिए अतिरिक्त ताकत आ गयी थी और ऊपर चढ़ना शुरू कर दिया मगर पैर रखते ही फिसलन भरी काई से, पैर फिसल जा रहा था ! घबरा कर लोगों को चीख कर, ऊपर
खींचने के लिए आवाज लगायी !इसके बाद मुझे नहीं मालूम कि मैं कैसे ऊपर पंहुचा था ...
जब होश आया था तो घर में मकान मालकिन अम्मा मु
झ पर पानी छिडकते हुए गालियाँ दे रही थी
कि उन्हें
मालूम
नहीं था कि मैं इतना बड़ा पागल हूं......
पे
स्ट
ना
म शे
विं
ग क्रीम- कुश
दो
साल पहले की बात है-
सुबह से होली खेलने का सिलसिला शुरू हो गया. दोपहर को जब घर आया, उस समय तक रंग की कई परतें मेरे चेहरे पर चढ़ चुकीं थीं. आँखों में भी रंग की जलन महसूस हो रही थी, और दांतों में रंग का कडवापन, सो घर आते ही बाथरूम में घुस गया और सोचा पहले ब्रश कर लूं . अधमुंदी आँखों से ही पेस्ट उठाया,ब्रश पे लगाया और ज़ोर-ज़ोर से रगड़ने लगा ताकि दांत चमकने लगें. लेकिन ये क्या? पेस्ट का स्वाद कुछ बदला-बदला सा लगा, मुंह से भी ढेर-ढेर झाग बुलबुले बन निकलने लगा......तुरंत कुल्ला करने के लिए पानी मुंह में भरा तो झाग और बढ़ गया, तब समझ में आया कि जल्दबाजी में पेस्ट की जगह शेविंग क्रीम ब्रश पे लगा बैठे थे :)



हमारी गुप्तकालीन बेवकूफ़ी - अजित वडनेरकर
बेवकूफियां तो खूब की हैं और आज तक जारी हैं। मेरी ज्यादातर बेवकूफ़ियाँ शरारती सिफ़त की देन हैं क्योंकि खुद को बडा होने ही नहीं दिया है। अभी इतने बड़े नहीं हुए कि खुद से बाहर बचपन ढूंढना पड़े। हालांकि खुद की शरारतों को मैं शरारतों की श्रेणी में नहीं रखता। मेरी फितरत ही ऐसी थी कि मेरी हरकतों को शरारत समझा गया। हमारा बचपन मध्यप्रदेश के सर्वाधिक पिछड़े जिलों में एक राजगढ़ मुख्याल पर हुआ। यह जिला राजस्थान सीमा से सटा हुआ है और प्रदेश के मालवांचल का उत्तर पश्चिमी छोर कहलाता है। एक मिसाल। नवीं कक्षा में हम थे तो साइंस के विद्यार्थी मगर सोशल साइंस जैसे विषयों के तहत इतिहास भी पढ़ना पड़ता था। इतिहास हमारा प्रि
य विषय रहा है । ये अलग बात है हमारे पाठ्यक्रम में ये कभी रहा। सोशल के पीरियड में ही प्रसंगवश शिक्षक समझा रहे थे कि मौर्य वंश से पहले भारत की एकता खतरे में थी। यूनानियों ने पश्चिमी सरहद पर अपनी बस्तियां बना ली थीं। पूरे भारत में अस्थिरता थी। राजमहलों में भितरघात और षड्यंत्रों का बोलबाला था। चापलूस दरबारियों की बन आई थी और राजा अहंकारी व निरंकुश हो रहे थे। इस दौर में कोई किसी पर भरोसा नहीं करता था। लगातार सत्तापरिवर्तन हो रहा था। असुरक्षा इतनी थी कि मुख्य शासक या प्रशासक रोज अपने शयन के ठिकाने भी बदल देते थेताकि सोते में उनकी हत्या न कर दी जाए। वगैरह वगैरह….
हमने ये सब कुछ नहीं सुना। हम तो अपनी खिड़के के पास वाली जगह पर बैठ कर बाहर का नजार कर रहे ते। अलबत्ता इतना ज़रूर पता था कि मौर्यकाल के बारे में कुछ चल रहा है। बीच-बीच में चंद्रगुप्त , महापद्मनंद, चाणक्य वगैर भी नज़र आ जाते
थे मगर कुल मिलाकर गुरुजी के मुखारविंद से जो इतिहास झर रहा था, उसकी तरफ ध्यान नहीं था। अचानक तेज आवाज से हमार ध्यान भंग हुआ - वडनेरकर…
हम चेते, कहा -जी सर।
बताइये, नंद वंश के अंतिम दौर में शासक रोज़ अलग अलग कमरों में क्यों सोता था ?
हमने भी तपाक से
जवाब दिया- -क्योंकि उनकी बहुत सारी रानियां होती थी ...
इसके बाद प
ता नहीं क्या हुआ सारी क्ला जोर जोर से हंसने लगी। दो लड़कियां भी हमारे साथ पढ़ती थी, उन्होंने अपना
मा
था टेबल पर टिका दिया। लड़के टेबल पीटने लगे। शिक्षक निरीह भाव से हमें देखते रह और फिर बैठने का इशारा कर
दिया।
शाम को जब हम हमेशा कि तरह किसी किताब को पढ़ने में मशगूल थे, हमने उन्ही शिक्षक को अपने घर मे प्रवेश करते देखा। हम समझ गए कि माम
ला नंदवंश से जुड़ा हुआ ही है। हमारे माता-पिता भी शिक्षक थेसो उन्हें पता था इसीलिए वे शाम को आए थे। बहरहाल,
हमने खुद को उसी वक्त बाथरूम में बंद कर लिया। उसके बाद कई बार हमारे नाम की आवाज़ लगी हम बाहर नहीं निकले। लंबे अंतराल के बाद जब लगा कि रास्ता साफ है, हम गुनगुनाते हुए कमरे में दाखिल हुए तो देखा कि गुरुवर तब भी बैठे हुए थे और बातचीत जारी थी। बहरहाल, जैसा सोचा था , वैसा कुछ नहीं हुआ। वो आए भी और चले भी गए। बाद में हमारे माता-पिता ने बताया कि वे हमारी प्रत्युत्पन्नमति की प्रशंसा करने आए थे। हालाँकि हम आज तक इस संस्मरण को अपनी बेवकूफियों में ही याद करते हैं। होली मुबारक हो....
लो जी, फिर बेवकूफ़ बन गये- अर्कजेश
वंदना जी का मेल मिला कि होली पर परिचर्चा पोस्‍ट के लिए अपनी यादगार बेवकूफी जाहिर कीजिए। चार दिन पहले मेल कर रही हूँ और आप लोगों के लिए तो एक घंटा ही काफी है। मतलब यदि किसी ने कभी कोई बेवकूफी न की हो (यदि ऐसा कोई समझता हो) तो अभी भी उसके पास चार दिन का समय था। यह बात अलग है कि वंदना जी मानती हैं कि हमारे जैसे कुशाग्र बेवकूफ के लिए एक घंटा ही काफी
है कोई बेवकूफी कर मारने को। पहले मैंने समझा कि होली पर की गई बेवकूफियों के बारे में लिखने को कह रही हैं। बाद में पता चला कि सिर्फ होली पर ही नहीं कभी भी कैसी भी की हो तो चलेगी। एक बेवकूफी तो हमारी यही हो गई। बेवकूफियॉं इतनी ज्‍यादा हो गई हैं कि याद ही नहीं आ रहीं कि कौन सी बेवकूफी लिखें। जैसे खरब‍ पतियों को याद नहीं रहता कि उनके पास कितनी दौलत है, क्‍योंकि ऐसे लोग खुद दौलत के पर्याय बन जाते हैं। वैसा ही हमारा हाल समझिए।अब बताइए भूमिका में ही आधा पेज खा गए और अभी बात शुरु भी नहीं हुई। सभी को होली की शुभकामनाऍं। और-
कबूलते रहें अपनी बेवकूफियां, जिससे
हम भी कह सकें "बडे" बेवकूफ हैं आप

हम हर वक्त नादानी नहीं करते- शाहिद मिर्ज़ा
वंदना जी आप भी ना :)
चलिए अपनी बात एक शेर के ज़रिये कहने की कोशिश करते हैं-
मुलाहिज़ा फ़रमाएं :) :) :)
हमारी ज़ि
न्दगी में कुछ शरारत का भी हिस्सा है
समझदारी की हम हर वक़्त नादानी नहीं करते.
अब बात चली है तो सोच रहे हैं कि बताएं....या न बताएं?
चलिए बता देते हैं.....
नहीं,
आप सबको बता देंगी :)
अरे हम भी अजीब
बेवक़ूफ़ हैं,
जो ऐसी बेवक़ूफ़ी भरी बातों में आ गए,
कि अपनी बेवक़ूफ़ी बताने चल दिए
अब आ गए हैं तो....
लीजिए बन ही गए न....
’बेवक़ूफ़’
भांग की मस्ती और रेलवे स्टेशन का हुडदंग -डॉ०
कुमारे
न्द्र सिंह सेंगर
होली आये और होली में किये हुए हुड़दंग भी याद न आयें तो समझो कि होली मनाई ही नहीं। हम लोग संयुक्त परिवार में रहते आये हैं और अपने बचपन से ही सभी पारिवारिकजनों के साथ ही होली का मजा लूटते रहे हैं। होली जलने की रात से शुरू हुआ धमाल कई-कई दिनों तक चलता रहता था। बचपन में अपने बड़ों की मदद से होली का हुड़दंग किया जाता था लेकिन स्वतन्त्र रूप से होली का हुड़दंग मचा जब हम अपनी उच्च शिक्षा के लिए ग्वालियर गये। हॉस्टल का माहौल एकदम पारिवारिकता से भरपूर था। हम सभी छात्रों के बीच किसी तरह का भेदभाव नहीं था। पहला ही साल था और हम सभी मिलकर दीपावली, दशहरा आदि अपने-अपने घरों में मनाने के पहले हॉस्टल में एकसाथ मना लिया करते थे। इसी विचार के साथ कि होली भी घर जाने के पहले हॉस्टल में मना ली जायेगी सभी कुछ न कुछ प्लानिंग करने में लगे थे। हम कुछ लोगों का एक ग्रुप इस तरह का था जो हॉस्टल की व्यवस्था मेंकुछ ज्यादा ही सक्रिय रहा करता था। इसी कारण से उन दिनों हॉस्टल की कैंटीन की जिम्मेवारी हम सदस्यों पर ही थी। होली की छुट्टियां होने के ठीक दो-तीन दिन पहले रविवार था। रविवार इस कारण से हम हॉस्टल वालों के लिए विशेष हुआ करता था कि उस दिन एक समय-दोपहर का- भोजन बना करता था, खाना बनाने वाले को रात के खाने का अवकाश दिया जाता था। रविवार को पूड़ी, सब्जी, खीर, रायता आदि बना करता था। हमसदस्यों ने सोचा कि कुछ अलग तरह से इस दिन का मजा लिया जाये। हमारी इस सोच में और तड़का इससे और लग गया जब पता चला कि हॉस्टल के बहुत से छात्र उसी रविवार को अपने-अपने घर जा रहे हैं। रविवार के भोजन को खास बनाने की योजना हम दोस्तों तक रही और अन्य सभीछात्रों के साथ आम सहमति बनी कि होली इसी रविवार को खेली जायेगी, उसके बाद ही जिसको घर जाना है वो जायेगा। हम दोस्तों ने अपनी योजना के मुताबिक उस दिन खाने में खीर में खूब सारी भांग मिलवा दी। इसी बीच कुछ छात्र जो होली नहीं खेलना चाहते थे और उन्हें घर भी जाना था, सो उन्होंने खीर भी इतनी नहीं खाई थी कि नशा उनको अपने वश में करता। ऐसे लगभग पांच-छह छात्रों ने हॉस्टल की दीवार फांदकर रेलवे स्टेशन की ओर भागना शुरू किया। उनके दीवार फांदने का कारण ये था कि हम सभी रंगों से भरी बाल्टी आदि लेकर दरवाजे पर ही बैठे थे कि कोई भी बिना रंगे घर न जा पाये। इस बीच उनका भागना हुआ और हम लोगों को भनक लग गई कि कुछ लोग जो हमारी इस होली में साथ नहीं हैं वे पीछे से भाग गये। बस फिर क्या था, होली का हुड़दंग सिर पर चढ़ा हुआ था, भांग का नशा अपनी मस्ती दिखा ही रहा था, हम सभी जो जिस तरह से बैठा था वैसे ही रेलवे स्टेशन की तरफ दौड़ पड़ा। कोई नंगे पैर तो कोई एक पैर में चप्पल-एक पैर में जूता बिधाये; कोई शर्ट तो पहने है पर पैंट गायब तो कोई नंगे बदन दौड़े ही जा रहा था। और तो और क्योंकि उन्हें रंगना भी था जो बिना रंगे निकल पड़े थे तो हाथों में रंगों से भरी बाल्टी भी लिये सड़क पर दौड़ चल रही थी। आप सोचिए कि बिना होली आये, होली जैसी मस्ती को धारण किये एकसाथ लगभग 20-25 लड़के बिना किसी की परवाह किये बस सड़क पर दौड़े चले जा रहे थे। लगभग चार-पांच किमी की दौड़ लगाने के बाद स्टेशन के प्लेटफॉर्म पर हुरियारों की टोली पहुंच ही गई, वे भी बरामद हो गये जिनको रंगना था। बस फिर क्या था चालू हो गई होली रेलवे स्टेशन पर ही। मस्ती का मूड, भांग का सुरूर, अपने साथियों को रंगने के बाद अपनी तरह के ही कुछ मस्ती के दीवाने यात्रियों को रंगना शुरूकिया। कुछ देर का हुल्लड़ देखने के बाद प्लेटफॉर्म पर बनी चौकी के सिपाहियों ने आकर दिखाये दो-दो हाथ तो रंगीन हाथ उनके साथ भी हो गये पर बाद में डर के मारे सभी वापस हॉस्टल लौट पड़े। आज भी कभी-कभी होली में भांग का स्वाद लेने का प्रयास किया जाता है तो हॉस्टल की होली और रेलवे स्टेशन का हुड़दंग याद आये बिना नहीं रहता है।

वो यादगार होली- रूपचन्द्र शास्त्री ’यंक’

लगभग 37 साल पुरानी बात है। उस समय मेरी नई-नई शादी हुई थी! पहली होली

सु

रा

ल में

मनानी थी। इसलिए मैं और मेरी

श्रीमती जी होली के एक दिन पहले ही रुड़की पहुँच गए थे।

उस समय मेरी इकलौती

साली का विवाह नहीं हुआ था। उसे भी जीजाजी के साथ होली खेलने की बहुत उमंग चढ़ी थी। रात में खाना खाकर सभी

लोग एक बड़े कमरे में इकट्ठे हो गये। उस कमरे में छत पर लगे बिजली के पंखे के साथ तीन गुब्बारे लटके हुए थे

सभी लोग ढोल-मंजीरे के साथ गाना गाने में और हँसी ठिठोली में मशगूल थे। तभी मेरी सलहज साहिबा ने मुझे डांस करने के लिए राजी कर लिया और नाच-गाना होने लगा। मेरी साली तो न जाने कब से इस मौके की फिराक में थी।

जैसे ही मैं पंखे से लटके गुब्बारों के नीचे आया साली ने सेफ्टीपिन से इन गुब्बारों को फोड़ दिया और बहुत गाढ़े लाल-हरे और बैंगनी रंग से मैं सराबोर हो गया।

आज भी वो होली मुझे भुलाए नहीं भूलती!

र पुलाव या मटन पुलाव??- शिखा वार्ष्णेय

अरे वंदना जी ये

क्या

पूछ लिया :) :) ..बेबकूफी और वह भी जो याद रह जाये ..बहुत नाइंसाफी है अब भला कितनी याद रखे कोई

? और

क्यों भला ?.खैर आपने पूछ ही लिया है तो अपने बचपन की एक बेबकूफी बताते हैं .

कोई १२- १३ साल की उम्र रही होगी हम तीनो बहने, पापा मम्मी के साथ मुंबई घूमने गए थे .जिस होटल में ठहरे थे उसके नीचे ही रेस्टोरेंट था .तो पापा ने हम बहनों को भेज दिया और क
हा कि तुम
लोग नीचे जाकर खाना खा आओ और हमारे लिए एक मटर पुलाव पैक करा कर ले आना.अब हमें जिम्मेदारी सौंपी गई थी तो रोब में हम गए और मेनू देखा. क्रम से लिखा था वेज पुलाव .चिकेन पुलाव,मटर पुलाव ..जल्दबाज हम जनम से हैं. तो हमने आव देखा ना ताव दो मटर पुलाव आर्डर
कर दिए .

अब खाना आया हमने खाया और एक मटर पुलाव पैक करा कर ले गए .पापा ने पूछा कितने का आया हमने बताया कि वेज पुलाव ३५ रु ...(सही रेट याद नहीं अभी ) का था और मटर पुलाव ५५ रु का .अब पापा का माथा ठनका कि मटर पुलाव वेज पुलाव से महंगा कैसे .? उन्होंने पेकेट खोला सूंघा और कहा इसे नीचे कोई भिखारी घूम रहा होगा उसे दे आ. अब माजरा समझ आया और हम भागे सिंक की ओर उल्टियां करने .असल में हुआ यह था कि जल्द बाजी में हमने मटन को मटर पढ़ लिया था और उसके नीचे पीस पुलाव पढने तक की जहमत नहीं उठाई थी.और मटर की जगह मीट पुलाव खा कर और लेकर आ गए थे . तब हम शाकाहारी हुआ करते थे और हमारे माता पिता शुद्ध शाकाहारी.तीन दिन तक जाने कैसा कैसा लगता रहा जीभ पर भी और मन में भी .खैर अपनी इस बेबकूफी की वजह से हमारा जो धर्म भ्रष्ट हुआ वो तो अलग बात है . परन्तु इस बेबकूफी ने उस भिखारी की ईद जरुर करवा दी.

क्यों बताऊं अपनी बेवकूफ़ी?- इस्मत ज़ैदी
वंदना , तुम भी कहाँ कहाँ से ढूंढ कर विषय लाती हो ?यादगार बेवक़ूफ़ी .....
...अरे एक हो तो बताएँ न ....भरे पड़े हैं क़िस्सेकोई बेवक़ूफ़ी ऐसी जो हंसी मज़ाक़ में टल गई
कोई ऐसी जो याद कर लूं तो आज भी शर्मिन्दा हो जाती हूँ और एक - दो ऐसी भी जो मुझे बहुत दुखी कर देती हैं तो ...न हम दुखी होना चाहते हैं ,न शर्मिन्दा और जो बात टल गई सो टल गई हा हा हा
होली बहुत बहुत मुबारक़ हो आप सब को.
(इस्मत साहिबा, आप बतायें या न बतायें, आपकी तमाम बेवकूफ़ियों का लेखा-जोखा है मेरे पास,
वो तो मेरी भलमनसाहत है, जो यहां ज़िक्र नहीं कर रही.)


" रउआ हंस दीं तो भोर हो जाई
" - रश्मि रविजा
अव्व
तो म
हिलाएँ बेवकूफियाँ करती नहीं हैं...भाई-पति-बेटे की बेवकूफियाँ सुधारने में ही उनका सारा समय निकल जाता है.:) पर कभी कभी कुछ ऐसा हो जाता है कि अनजाने ही की गयी कोई हरकत...इस श्रेणी में आ जाती है.
मेरे चाचा की लड़की की शादी हुई. खानदान की पहली शादी...हम सब बड़े उत्साह में थे ...शादी की तैयारियों से लेकर शादी की रस्मे....और उस
के बाद दीदी-जीजाजी का मायके आगमन, सब भरपूर एन्जॉय कर रहे थे. दीदी मायके आई हुई थी और उसके ससुराल के गाँव से एक चचेरा देवर उस से मिलने आया. हमलोगों को तो मजाक बनाने के लिए एक नया मुर्गा मिल गया...जीजाजी की खिंचाई भी चलती रहती थी...पर थोड़े एहतियात से.....कहीं उन्हें कुछ बुरा ना लग जाए..और फिर मम्मी-चाची से डांट ना खानी पड़ जा
ए. पर ये लड़का सीधा-साधा...हमारा हमउम्र....कॉलेज में पढनेवाला था... पर एकदम पूरे बाहँ की कमीज और गले तक बंद बटन और टेढ़ी मांग का
ढ कर करीने से सँवारे बाल {शायद थोड़ा तेल भी लगा हुआ था :)} ने ही हमें इशारा दे दिया कि इसकी जम का खिंचाई की जा सकती है. और हम लोग शुरू हो गए. सारी बहनें उसे घेर कर बैठ गए. बहनों में सबसे बड़ी मैं ही थी...सो कमान मैने संभाला हुआ था. हमलोग कुछ पूछते ...वो बेचारा जबाब देता और उसका जबाब हम सबकी समवेत हंसी में गुम हो जाता. देर तक ये सिलसिला चलता रहा उसकी हर बात पर हम जोर-जोर से हँसते ..उसने निरीह सी एक मुस्कराहट चिपका रखी थी, चेहरे पर. करता भी क्या....इतनी सारी लड़कियों के बीच उसकी बोलती बंद थी. जब नाश्ता आया...और जैसे ही उसने प्लेट की तरफ हाथ बढाया...हमने टोक दिया.."अरे अरे...अकेले अकेले खायेंगे....अपनी भाभी को पूछा भी नहीं...क्या खयाल रखेंगे आप हमारी दीदी का.." वो बेचारा रुक कर दीदी से आग्रह करने लगा....दीदी कहती रही ," आप इनकी मत सुनिए ..शुरू कीजिए.." दीदी के एक टुकड़ा ले लेने पर जब दुबारा उसने प्लेट की तरफ हाथ बढाने की कोशिश की...तो हमने फिर टोक दिया....."हमसे तो पूछा ही नहीं " . बेचारा फिर झेंप कर रुक गया. पूरे आधे घंटे तक हमने उसे उन लड्डू-बर्फी-समोसों-हलवा को बस ललचाई नज़रों से ताकने ही दिया...हाथ नहीं लगाने दिया. अब शायद दीदी को भी थोड़ा बुरा लगने लगा था...एक तो नया -नया रिश्ता और उस पे शायद सोच रही होगी..कहीं इसका बदला उससे ससुराल में ना लिया जाए. वो हमें मना करती रहती. पर हम सब तो अपनी धुन में थे. आखिरकार उसने दूसरी तरफ बात मोड़ने को कहा...,"ये बहुत अच्छा गाना गाते हैं...कॉलेज के प्रोग्राम में भी गाते हैं...एक गाना सुनाइये
"...हम और खुश हो गए...अब तो हंसी उड़ाने का एक और मौका मिल गया. हमने एक दूसरे की तरफ छिपी नज़रों से देखते हुए जोश बढाया..."हाँ ..हाँ सुनाइए" एकदम से उस लड़के की भाव-भंगिमा में परिवर्तन आ गया. कंधे थोड़े सीधे हो गए..तन कर बैठ गया और गला साफ़ करते हुए बोला.."एक लोकगीत सुनाता हूँ" हम फिर से हँसे, पता नहीं ये क्या गाने वाला है...पर वो उसके
सामने हमारी आखिरी हंसी थी. एक तो उसका गला बहुत ही अच्छा था. और उसने गाना भी ऐसा चुना...हर पंक्ति में विभिन्न उपमाओं से 'हंसी' को वर्णित किया गया था. और सीधा मेरी तरफ गर्व से देखते हुए जो तरन्नुम में गाया उसने ..मुझे समझ नहीं आ रहा था...किधर देखूं. दो पंक्तियाँ तो अब भी याद हैं.
"राउया हंस दीं तो भोर हो जाई
सारी दुनिया अंजोर हो जाई"
उसका गाना ख़त्म होते ही मैं बहाने से उठ कर चली गयी...फिर वो जब तक रहा,उसके सामने नहीं आई.
अब हो जाता है..ऐसा कभी कभी...हमलोग भी तो इंसान ही हैं ना..:)

नहीं भूलती डायपर की खरीददारी- ज्योति सिंह
तुम्हारा भी जवाब नहीं. ऐसे ऐसे टॉपिक चुनती हो कि बीते हुए दिन तुरंत ताज़ा हो उठाते हैं. और हंसी की पिचकारी फूट पड़ती है. एक ऐसी ही बेवकूफी मैं भी कर बैठी रही. बात कई वर्ष पहले की है, तब मेरी बेटी बहुत छोटी थी, आठ-नौ माह की. उसके लिए डायपर लेने जनरल स्टोर गई और दुकानदार से बोली एक पैकेट huggies दे दीजिये. दूकानदार ने पूछा किसके लिए? मैं सोची ये कैसा बेहूदा सवाल कर रहा है? तुरंत तेज़ आवाज़ में लगभग चिल्लाते हुए बोली- "मेरे लिए, और किसके लिए?" ये सुनते ही दुकान पर मौजूद सभी लोग मेरी तरफ देखने लगे, मेरे साथ मेरी पडोसी मित्र स्नेह भी रहीं , तुरंत बोलीं- भाभी जी, ये क्या कह रही हैं?मैंने कहा ये पूछ ही ऐसे रहे हैं. तभी दुकानदार ने कहा- भाभी जी, डायपर तो बच्चों की उम्र के हिसाब से मिलते हैं, आपको कितनी उम्र के लिए चाहिए? बस फिर क्या था? मैं अपनी बेवकूफी पर इतनी शर्मिंदा हुई, और बाकी सब ठहाका लगा के हंस पड़े. आज भी दूकानदार मुझे देख के हंस पड़ता है और मैं अपनी बेवकूफी पर.

रादेव जी, आप पहले क्यों न आये?- प्रियदर्शिनी तिवारी
मेरे द्वारा की गई बेवकूफ़ी ..हूंह,कैसी-कैसी बातें ,कैसे-कैसे टॉपिक आपके दिमाग में आते हैं .आप की तस्वीर देखकर तो ऐसा नहीं लगता कि पका दिमाग इतना खुराफ़ाती [यह शब्द मेरी मम्मी बहुत बोलती हैं ] होगा
.सच-सच कहूं तो इस टौपिक पर लिखना मेरे लिये बहुत मुश्किल है जानेंगी क्यूं ?,क्योंकि जिन्दगी भर से मैं बेवकूफ़ी ही करती आ रही हूं. और कोई भी इतनी स्टैन्डर्ड नही है.जिसे लिखकर मैं आपके पास भेज सकूं .जब मैं ग्यारहवीं का एग्जाम दे रही थी ,तब मैंने प्री-आयुर्वेद का टैस्ट दिया .पता नहीं कैसे मेरा सेलेक्शन हो गया..वह भी बिना किसी तैयारी के ,मुझे घमंड आना लाजिमी था.सोचा.जब पहली बार में मेरा सेलेक्शन हो गया तो क्यूं ना अगली बार एम बी बी एस का एग्जाम दूं सो मैंने एड्मीशन नही लिया .उस समय बाबा रामदेव जी को कोई नहीं जानता था .सो आयुर्वेद कि स्थिति
थोडी दयनीय सी थी .बैडलक ,अगले साल मैंने साईंस के विषय त्यागकर लिटरेचर के विषय अपनाये.सोचा पी एच डी करूंगी .जो अभी तक ना हो पाई .कुछ समय बाद बाबा रामदेव टी वी पर अवतरित हुए .जब से उन्होंने आयुर्वेद को घर-घर पहुंचाया है ,सच मानिये ,सोच कर ही मेरा गला भर आता है .जब भी ’"दिव्य योग "चिकित्सालय के पास से गुजरती हूं ,उसके अन्दर अपने आप को बैठा हुआ पाती
हूं .मुझे भी अब आयुर्वेद कि काफ़ी जानकारी हो गई है ,[रामदेव जी की कृपा से ] पर उससे क्या ..जो बेवकूफ़ी मैंने की है ,भुला नहीं सकती .हैप्पी होली.





74 टिप्‍पणियां:

  1. होली के ख़ूबसूरत रंगों के साथ ये रंग बिरंगी छटाएं बिखेरती पोस्ट्स जिन में जीवन के भी कई रंग लुका छिपी खेलते नज़र आते हैं
    बहुत बढ़िया भी और मज़ेदार भी
    बधाई होली की और बढ़िया पोस्ट की

    उत्तर देंहटाएं
  2. होली का त्यौहार आपके सुखद जीवन और सुखी परिवार में और भी रंग विरंगी खुशयां बिखेरे यही कामना

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत मज़ा आया !

    होली की हार्दिक शुभकामनाएँ!

    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  4. अरे भाई! आपने सबकी बेवकूफ़ियां तो इकट्ठा कर लीं। अब अपनी कहानी भी सुनायें। :)

    होली मुबारक!

    उत्तर देंहटाएं

  5. @ "वंदना , तुम भी कहाँ कहाँ से ढूंढ कर विषय लाती हो ?यादगार बेवक़ूफ़ी .....
    ...अरे एक हो तो बताएँ न ....भरे पड़े हैं किस्से बेवकूफियों के ...."

    इस्मत जी की यह बात अच्छी और सत्यता के नज़दीक लगी :-)

    वाकई किस्से अनगिनत होंगे यह और बात है कि हम उसे बेवकूफी ही नहीं मानते ....

    हार्दिक आभार आपका इतना प्यारा विषय चुनने के लिए ! उपरोक्त सभी बेवकूफिया पढ़कर बहुत कुछ हँसते हँसते सीखा जा सकता है !

    होली की शुभकामनायें स्वीकार करें !

    सादर !

    उत्तर देंहटाएं
  6. आदरणीय वंदना जी
    सादर प्रणाम
    क्या बातें लिखी हैं आपने आनंद आ गया ....आपको सपरिवार होली की हार्दिक शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  7. आप लोगों के संस्मरण पढ़कर बहुत अच्छा लगा!
    वन्दना अवस्थी दुबे जी का धन्यवाद!
    सभी को होली की बहुत-बहुत शुभकामनाएँ!

    उत्तर देंहटाएं
  8. यादगार बना दिया आपने इस दिन को... सबकी बेवकूफी को निशाने पर रख दिया , बहुत मज़ा आया

    उत्तर देंहटाएं
  9. वाह वंदना जी यह भी खूब रही ...सबकी बेवकूफियां उजागर हो गयीं .. :):) लेकिन आप खुद को साफ़ बचा ले गईं ...

    मजेदार पोस्ट ...समीर जी के साथ घटी घटना का दृश्य सोच हंसी नहीं रुक रही :)

    होली पर हार्दिक बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  10. होली पर सबकी बेवकूफियां पढवा दीं ? हा हा ...मजेदार ।

    उत्तर देंहटाएं
  11. ............
    होली है
    ................
    होली की हार्दिक शुभकामनायें
    manish jaiswal
    Bilaspur
    chhattisgarh

    उत्तर देंहटाएं
  12. holi ki hansi ko aapne char guna kar diya hai.aapko holi kee in sabhi mahan bevakoofi karne valon ke sath bahut bahut badhai..

    उत्तर देंहटाएं
  13. हे राम; ऐसी बेवकूफि़यॉं, वो भी पुरोधाओं द्वारा, कहीं ये होली के मज़ाक तो नहीं।
    एक बेवकूफ़ी अभी हाल ही में मैनें भी की, इस श्रंखला में भाग न लेने की।
    चलिये अगली बार सही।

    उत्तर देंहटाएं
  14. वाकई मजा आ गया, वो क्या है ना कि हमें दूसरों के किस्से पढ़कर मजा आता है कि चलो अपन थोड़े ज्यादा बेबकूफ़ हैं :)

    उत्तर देंहटाएं
  15. सबकी बेवकूफियाँ बड़ी प्यारी लगीं।
    आप सभी को होली की हार्दिक बधाई और शुभकामनाएँ।

    उत्तर देंहटाएं
  16. नेह और अपनेपन के
    इंद्रधनुषी रंगों से सजी होली
    उमंग और उल्लास का गुलाल
    हमारे जीवनों मे उंडेल दे.

    आप को सपरिवार होली की ढेरों शुभकामनाएं.
    सादर
    डोरोथी.

    उत्तर देंहटाएं
  17. वाह ! आज पता चला कि सब एक से बढ़ कर एक हैं :)

    उत्तर देंहटाएं
  18. वंदना जी! होली के मौके पर आपने बहुत दिलचस्प परिचर्चा का आयोजन किया. बधाई! कहते हैं कि जिस व्यक्ति को अपनी बेवकूफियों का इल्म होता है उससे बड़ा होशियार कोई नहीं होता और जो बुनियादी तौर पर बेवकूफ होते हुए अपने को होशियार समझता है उससे बड़ा बेवकूफ कोई नहीं होता. अब परिचर्चा में शामिल लोगों में किसको किस श्रेणी में रखती हैं आप जानें. होली मुबारक हो.
    ----देवेन्द्र गौतम

    उत्तर देंहटाएं
  19. शुक्र है समीर जी ने किसी मोटे पेट वाले आदमी को ऐसा नहीं कह दिया ।
    अनूप जी की बेवकूफी तो उधार की लगती है । भई अब गलती तो एयर लाइन की थी न कि अनूप जी की ।
    हा हा हा ! सतीश जी तो ---अब तक भी ऐसी हरकतें कर देते हैं ।
    कुश के दांत तो अब हिरोइन जैसे चमक रहे होंगे ।
    शास्त्री जी ने साली के साथ होली खेली, फिर इसे बेवकूफी क्यों कह रहे हैं ।
    शिखा जी का मटर पुलाव --हा हा हा --खाने के बाद तो मटर पुलाव ही बन गया होगा ।
    सभी धुरंधरों की बातें धुरंधर रहीं ।

    होली की शुभकामनायें ।

    उत्तर देंहटाएं
  20. आपको और आपके परिवार को होली की हार्दिक शुभकामनायें!

    उत्तर देंहटाएं
  21. गजब की परिचर्चा!
    जय हो।
    सदा आनंदा रहैं यहि द्वारे!

    उत्तर देंहटाएं
  22. बहुत ही अच्छा और रोमांचक विषय चुना है आपने
    सभी की सभी
    यादगार बेवकूफियां तहरीर की गयी हैं
    जिस से कि इस शानदार होली-अवसर का आनंद
    दोगुना हो गया....

    अभिवादन .

    उत्तर देंहटाएं
  23. बढिया संग्रह हुआ है। होली मुबारक।

    उत्तर देंहटाएं
  24. दिलचस्प बेवकूफियां पढ़कर कर मजा आ गया...

    अच्छी प्रस्तुति...हार्दिक बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  25. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  26. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  27. अरे वाह...खूब जमा की है बेवकूफियों की दास्तान
    कोई किसी से कम नहीं
    बहुत बढ़िया परिचर्चा रही....

    होली की हार्दिक शुभकामनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  28. Ohh!!...jaldbaazi me chhoti tippani ki to teen baar post ho gayee...so delete karna pada...

    sooo sorryy :)

    उत्तर देंहटाएं
  29. कोई बात नहीं रश्मि,कमेंट्स की संख्या बढा दी तुमने तो :) :)

    उत्तर देंहटाएं
  30. सच वंदना जी, आपको समय के मुताबिक विषय चुनने में महारत हासिल है...
    होली के मौके पर बेवकूफ़ी से अच्छा समझदारी का विषय हो ही नहीं सकता था :)
    सफ़ल रहा ये प्रयास
    सभी को होली की हार्दिक शुभकामनाएं.

    उत्तर देंहटाएं
  31. अनूप जी, शिखा,संगीता जी, आप लोग तो बस डांटने ही लगे सबके सामने :(:( लिखूंगी न, कुछ स्तरीय बेवकूफ़ियां छांट तो लेने दें.

    उत्तर देंहटाएं
  32. मजा आ गया और बकिया टोका टाकी हो ही गई है, जल्दी ही अपना पिटारा खोलिये...:)

    मस्त आयोजन!!

    उत्तर देंहटाएं
  33. सारी बेवकूफियां बड़ी मजेदार हैं ...
    अब कुछ आपकी भी हो जाएँ ...
    शुभकामनायें !

    उत्तर देंहटाएं

  34. अब सबकी पोल तो खुलवा ली ...खुद बची हुई हो !

    अब अगली पोस्ट वंदना जी की बेवकूफियों पर ही आनी चाहिए ! पंद्रह दिन का समय देते हैं अगर यह पोस्ट नहीं आई तो फिर आपके उन दोस्तों को ढूँढेंगे जो आपके राजदार होंगे !

    मुझे लगता है गोवा जाकर शायद काम बन जाए ....

    फिर "मेरे गीत" पर वह पोस्ट छापेंगे ....इसे कोरी धमकी न माने ... !
    :-)

    उत्तर देंहटाएं
  35. अभी चलते फिरते वाली स्टाइल में सभी की महान बेवकूफियां देखीं, लगा कि हम अकेले नहीं हैं इस संसार में ...... ब्लॉग जगत के दिग्गजों की पूरी-पूरी सूची है यहाँ.
    अच्छा लगा, आपको साधुवाद.
    जय हिन्द, जय बुन्देलखण्ड

    उत्तर देंहटाएं
  36. मजा आ गया... आज पता चला कि सिर्फ हम ही बेवक़ूफ़ नहीं हैं.. ;)

    उत्तर देंहटाएं
  37. जानकार ख़ुशी हुई कि मैं अकेला ही बेवकूफ नहीं हूँ... :)

    होली पर आपका ये प्रयास भी अच्छा रहा.. मज़ा आया सबकी बेवकूफिय पढके

    उत्तर देंहटाएं
  38. इतनी सारी बेवकूफ़ियाँ .... वो भी एक जगह ... मज़ा आ गया पढ़ कर ... बहुत खोज कर विषय ढूँढा है आपने ...
    होली की बहुत बहुत बधाई ...

    उत्तर देंहटाएं
  39. ब्लॉग जगत के धुरंधर बेवकूफों की बात पढ़ कर लगा हम ने ब्लोगिंग में उतरने का निर्णय सही लिया है...ये बेवकूफों की दुनिया है...हुर्रे...

    निगाहे कम से मेरी चाक दामानी को मत देखो
    हजारों होशियारों में कोई दीवाना बनता है

    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  40. रोचक, मजेदार...।

    होली पर्व की अशेष हार्दिक शुभकामनाएं।

    उत्तर देंहटाएं
  41. रोचक, मजेदार...।

    होली पर्व की अशेष हार्दिक शुभकामनाएं।

    उत्तर देंहटाएं
  42. वाह ! आज पता चला कि सब एक से बढ़ कर एक हैं :)

    उत्तर देंहटाएं
  43. मुझे लगता है गोवा जाकर शायद काम बन जाए ....

    सतीश जी ,
    आप गोवा ज़रूर आएं ,आप का स्वागत है लेकिन यदि आप वंदना की बेवकूफ़ियां
    जानना चाहेंगे तो सॉरी :) ,इस में सफलता गोवा में तो नहीं मिल पाएगी :)

    उत्तर देंहटाएं

  44. दोस्त तो हम भी आपके है फिर पक्षपात क्यों :-(
    मना लेंगे आपको, आपके दिल को जीतना मुश्किल नहीं... आसान है :-)
    शुभकामनायें !

    उत्तर देंहटाएं
  45. मजेदार बेफकुफिया ,हम सब से अनजाने में ऐसा कभी न कभी हो ही जाता है और बाद में खुद पर ही हंसी आती है

    उत्तर देंहटाएं
  46. are re re re ...... ye to hum bekuf
    the.......jo itte bekufon ko....hosiyar samajh baithe the.....

    o to bhala ho didi apka jo apne.....
    chupe rustamon ko expose kiya hai...


    pranam.

    उत्तर देंहटाएं
  47. लो जी आप हमें तो भूल ही गईं या फिर हमारी गिनती बेवकूफों में नहीं होती है।

    उत्तर देंहटाएं
  48. यह जानकर अच्छा लगा कि समझदार भी बेवकूफ़ियां करते हैं. फ़िर बेवकूफ़ों का क्या दोष?:)

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  49. बहुत बढ़िया भी और मज़ेदार भी, बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  50. एक साथ, एक ही स्थान पर ब्लाग जगत के इतने बडे-बडे महारथियों के द्वारा अपने जीवन के विशेष अनुभवों का प्रकटीकरण आपके निर्देशन में । आनन्द आया आपकी इस पोस्ट पर आकर । इस विशेष अनुभव के लिये श्री सतीश सक्सेनाजी को विशेष धन्यवाद...

    उत्तर देंहटाएं
  51. सब की महान बेवकूफियां बड़ी मजेदार ओर याद गार हैं ...

    उत्तर देंहटाएं
  52. हा हा हा... बढ़िया संस्मरण रहे यह सब...

    उत्तर देंहटाएं
  53. हमारी बेवकूफ़ियां तो साल भर चलती हैं, किस किस का जिक्र करें। हा हा हा

    होली की बधाई एवं शुभकामनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  54. ये आपका सवाल सारे समझदारों के लिए था...

    लेकिन हम जैसे मक्खन की सोहबत में रहने वालों के लिए भी तो कोई सवाल होना चाहिए-

    मेरी एक समझदारी...

    क्योकिं जैसे समझदार दुर्लभ ही बेवकूफ़ी करते हैं, वैसे ही हमारे जैसे जीवों के लिए समझदारी भी दुर्लभ होती है...

    जय हिंद...

    उत्तर देंहटाएं
  55. मुझे शिकायत है इस्मत और शाहिद जी से ,जिन्होंने बड़ी खूबसूरती से अपनी बेवकूफी को छिपाया . जिसमे सरलता होती है ,वही नादानी कर बैठता है ,और साथ ही उसे सहर्ष स्वीकार भी लेना ,इससे उसकी सहजता साबित होती है . ,छोटी -छोटी यादो को समेट कर ,बांटकर आनंद दुगुना किया जाता है और इस प्रयास में हमें बराबर सहयोग देना चाहिए , क्योंकि बेवकूफियां हमें बहुत कुछ सिखाती है .हम इंसान है जाने -अनजाने गलतियां हो ही जाती है हमसे .
    दूसरी बात सबकी शिकायत है कि वंदना ने अपनी बेवकूफी नही डाली ,ये अनोखा ख्याल उसी का रहा ,फिर वो भला अपनी क्यों डाले ...,,,?उसकी मेहनत एवं सोच को सराहती हूं दिल से

    उत्तर देंहटाएं
  56. thank uuuu ज्योति. चलो कोई तो मेरे साथ है, अपनी बेवकूफ़ियां न लिखने का हौसला दिलाने के लिये :) फिर वो कोई यदि ज्योति जैसी स्नेहिल मित्र हो, तो क्या कहने!!

    उत्तर देंहटाएं
  57. Bahut Badhiya Sansmaran hain sabhi ke.....Sabhi ko HOLI ki hardik shubhkamnayen.....

    उत्तर देंहटाएं
  58. आदरणीय वंदना जी
    नमस्कार !
    ....मजा आ गया
    बेवकूफियाँ प्यारी लगीं।

    उत्तर देंहटाएं
  59. होली की सपरिवार रंगविरंगी शुभकामनाएं |
    कई दिनों व्यस्त होने के कारण  ब्लॉग पर नहीं आ सका

    उत्तर देंहटाएं
  60. बेवकूफी अनजाने में ही होती है. अनूठे तजुर्बे, अनूठी पोस्ट .

    उत्तर देंहटाएं
  61. यहाँ तो बड़े-बड़ों की बड़ी बड़ी हैं..! ढेर सारी जुट जांय तो एक किताब छपवा लीजिए.।
    ...बुद्धिमान ब्लॉगरों की बेवकूफियाँ..
    ...कहीं यह सुझाव भी एक बेवकूफी तो नहीं ?
    ...सहसा यकीन ही नहीं हो रहा कि ब्लॉगिंग में यह कमाल भी हो सकता है! इसके लिए आपकी जितनी भी प्रशंसा की जाय कम है।

    उत्तर देंहटाएं
  62. आपकी नायाब पोस्ट ने तो तरोताज़ा कर दिया.. शुक्रिया :)

    उत्तर देंहटाएं
  63. मुझे शिकायत है इस्मत से ,जिन्होंने बड़ी खूबसूरती से अपनी बेवकूफी को छिपाया . जिसमे सरलता होती है ,वही नादानी कर बैठता है ,और साथ ही उसे सहर्ष स्वीकार भी लेना ,इससे उसकी सहजता साबित होती है

    ज्योति ,तुम्हारी शिकायत सर आँखों पर लेकिन मैं ने लिखा तो है कि एक दो हो तब बताऊँ न
    उस के लिए तो पूरी पोस्ट भी कम है ,मैं ने तो अपनी सारी बेवकूफ़ियाँ स्वीकार कर ली हैं

    उत्तर देंहटाएं
  64. सब की बेवकूफ़ियां पढीं ..बार-बार पढीं ..बहुत मजा आया..होली के दिन से ही कमेंट कर रही हूं ..पता नहीं क्यूं ..पोस्ट नहीं हो रहा..तुम्हें अपनी भी बेवकूफ़ियों का पिटारा खोलना चाहिये था ..यही तरीका है..तुम्ने तो सबको बेवकूफ़ बना दिया मैडम...

    उत्तर देंहटाएं
  65. ० इस्मत, बृजमोहन जी, यशवंत जी बहुत बहुत आभार.
    ०- अनूप जी, कभी तो समझदार बनने का मौका दीजिये :)
    ०- सतीश जी, शिखा,केवलराम जी, शास्त्री जी, रश्मिप्रभा जी, संगीता जी, दिव्या, मनीष जी, शालिनी जी, तिलकराज जी, विवेक, परशुराम जी, डोरोथी जी,काजल कुमार जी, देवेन्द्र जी, डॉ. दराल जी, बबली जी, सिद्धेश्वर जी, दानिश जी,अर्कजेश, वर्षा जी, रश्मि, शाहिद जी बहुत बहुत आभार.
    ०- समीर जी, पिटारे में से शानदार बेवकूफ़ी खंगालने तो दीजिये:)
    ०- सतीश जी, आपका आदेश कैसे टालूंगी? गोआ जाने की ज़रूरत नहीं पड़ेगी, जल्दी ही हाज़िर होती हूं.
    ०- वाणी, डॉ. कुमारेन्द्र जी, सतीशचंद्र जी, कुश, नवीन जी, दिगम्बर जी, नीरज जी, महेन्द्र जी, अदा जी,अंशुमाला जी, संजय जी, राजेश जी, ताऊ जी, राजेन्द्र जी, सुशील जी, राज जी, शाहनवाज़ जी, ललित जी, खुशदीप जी, ज़ाकिर अली जी, ज्योति, सुमीत जी, संजय भास्कर जी, कुसुमेश जी, देवेन्द्र पांडे जी,इन्द्रनील जी, मीनाक्षी जी, आप सब का बहुत बहुत आभार.
    ०- प्रियदर्शिनी, तुम्हारी आमद का इन्तज़ार था:)( एक तो तुम्हें ’प्रियदर्शिनी’ सम्बोधित करना बड़ा अटपटा लगता है)

    उत्तर देंहटाएं
  66. आभारी हूं, आप सब टेपा सम्राटों की,जिन्होंने अपने अनुभव भेज इस परिचर्चा को सफल बनाया. उम्मीद है, भविष्य में भी अपनी इन ’बे.......यों’ को जारी रक्खेंगे, और मेरी ऐसी ही किसी दूसरी परिचर्चा में भाग लेकर उसे भी सफल बनायेंगे:):)

    उत्तर देंहटाएं
  67. होली के अवसर पर इस पोस्ट के लिये बदाई । बेवकूफियां तो खैर हम सभी करते है ।

    उत्तर देंहटाएं
  68. एक से एक सकल रनधीरा !
    देख विभीषन भयऊ अधीरा !!
    वाह मजा आ गया !
    आपको नव सम्वत्सर की बधाई !

    उत्तर देंहटाएं
  69. इन यादगार किस्सों के संग्रह के लिए आपको बधाई ......!!

    उत्तर देंहटाएं