मंगलवार, 9 जून 2009

श्रद्धांजलि......

आज सुबह का अख़बार शोक संदेश बन कर आया जैसे....रंगमंच के पुरोधा हबीब तनवीर का देहांत और साथ में एक सड़क दुर्घटना में तीन दिग्गज कवियों का निधन.......स्तब्ध हूँ ईश्वर की इस इच्छा पर.....याद आरहे हैं हबीब साहब के साथ बिताये वे दिन जब हम भोपाल में आयोजित नाट्य शिविर में थे....कितनी मेहनत करते थे एक-एक पात्र पर....कितनी डांट खाते थे हम ....फिर याद आए वे दिन जब रीवा में नाट्य शिविर आयोजित हुआ। एक बार फिर वही सिलसिला...लेकिन इस बार मैं केवल सूत्रधार के रूप में थी। नाटक था चरणदास चोर। चार सफल प्रस्तुतियां हुई इसकी। कितनी ऊर्जा थी उनमें!!! खैर अब बस यादें ही शेष....मौत से बड़ा सच दूसरा नहीं।
हबीब साहब ने अपनी ज़िन्दगी अपनी तरह से जी, और अपनी बीमारी से ये संकेत भी दिया की अब वे ज़्यादा दिन हमारे बीच नहीं रहेंगे। लेकिन बेतवा महोत्सव से लौट रहे कविगण तो अनायास ही चले गए!! रात में जिन्हें हँसाते रहे, सुबह उन्हें ही रुला दिया!!
हबीब साहब, ओमप्रकाश आदित्य,लाड सिंह और नीरज पुरी को मेरी अश्रुसिक्त श्रद्धांजलि। ईश्वर उनकी आत्मा को शान्ति और उनके परिवार को संबल दे.

11 टिप्‍पणियां:

  1. हबीब तनवीर जी, आदित्य जी, नीरज पुरी जी, और लाड सिंह गुज्जर जी को अश्रुपूरित श्रद्धांजलि

    और

    ओम व्यास तथा बैरागी जी शीघ्र स्वास्थय लाभ की कामना.

    वाकई, आज का दिन "मंच" पर वज्रपात का दिन है ||

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत ही दुःख की बात है ये! उन सज्जनों की आत्मा को शान्ति मिले!

    उत्तर देंहटाएं
  3. is khabar ne to man ko dukhi kar diya .un sabhi kalakaro ko shradhaanjali hamari taraf se .

    उत्तर देंहटाएं
  4. निश्चित रूप से कलाजगत की ये अपूर्णीय क्षति है.

    उत्तर देंहटाएं
  5. भाव-भीनी श्रद्धांजलि

    श्री हबीब तनवीर जी, श्री ओमप्रकाश आदित्य जी, श्री नीरज पुरी जी, श्री लाड सिंह गुज्जर जी का असमय

    इस नश्वर संसार से चले जाना,

    साहित्य-जगत की अपूरणीय क्षति है।

    परमपिता परमात्मा से प्रार्थना है कि

    वो दिवंगत आत्माओं को

    सद्-गति प्रदान करें और

    परिवारीजनों को

    इस दारुण-दुख को

    सहन करने की शक्ति दें।

    दुख की इस घड़ी में

    सभी ब्लॉगर्स आपके साथ हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  6. जी हां शास्त्री जी, यह दुख हम सब पर भारी है.लम्बे समय तक यह हमें सालता रहेगा.

    उत्तर देंहटाएं
  7. शाम से आंख में नमी सी है
    आज कुछ आप की कमी सी है
    बस ऐसा ही भाव अब शेष है.

    उत्तर देंहटाएं
  8. ईश्वर उनकी आत्मा को शान्ति और उनके परिवारों को सम्बल प्रदान करे.

    उत्तर देंहटाएं